अभी थका नहीं हूं मैं,

अभी थका नहीं हूं मैं,
अभी तो और चल सकता हूं।
अभी तो चिंगारी हि भडकी है,
अभी तो और जल सकता हूं।।
ये तेरा जुनून है,
जो मुझे जगाये रखता है।
तुझे पाने की कोशिश में ,
मुझे लगाये रखता है।
अभी तो उदय हुआ हूं मैं
अभी कहां ढल सकता हूं।।
अभी तो चिंगारी भडकी है दोस्त
अभी तो और जल सकता हूं।।

By Yogesh Sharma

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: