Hindi Poetry

उम्मीद हैं

0 0
Read Time:42 Second

उम्मीद हैं एक नये सवेरे की,
उम्मीद-हैं एक नये उजाले की ।

उम्मीद-हैं हौसलों की उड़ान की,
उम्मीद-हैं एक नये रुझान की ।

उम्मीद हैं नाउम्मीदी से लड़ने की,
उम्मीद हैं निरंतर आगे बढ़ने की ।

उम्मीद हैं इस सैलाब के रुकने की,
उम्मीद है मुश्किलें पार करने की ।

उम्मीद हैं इस घोर अंधियारे के ख़ात्मे की,
उम्मीद हैं आशाओं के चिराग़ की रोशनी की ।

उम्मीद है,
इन उम्मीदों, के मुकम्मल होने की ।

-aayushiee

 

https://thehindiguruji.com/category/contents/poetry/hindi/

https://gurujiblog.com/

About Post Author

Sachin Gupta

Law graduated in 2019, Practicing as an advocate in Delhi. Presently, I want to post my ideas.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: