Hindi Poetry

उम्मीद हमसे है

0 0
Read Time:30 Second

रात को सुबह से उम्मीद है
और सुबह को सूरज से ।
सूरज को धरती से उम्मीद है
और धरती को प्रकृति से ।
प्रकृति को मनुष्य से उम्मीद है
और मनुष्य को समाज से ।
पर हम भूल गए है
कि उम्मीद हमसे है
न कि हम उम्मीद से ।
यह प्रकृति हमसे है ।
यह समाज हमसे है ।
हम है तो सब है ।
हम नहीं तो कुछ नही।

-Anshul Jain

 

Also read this post

About Post Author

Sachin Gupta

Law graduated in 2019, Practicing as an advocate in Delhi. Presently, I want to post my ideas.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: