Hindi Poetry

गुमनाम सी ये ज़िन्दगी…

0 0
Read Time:26 Second

चारो ओर है अंधेरा न हुआ अभी सवेरा,
बस यूँही ढलते जा रही, गुमनाम सी ये ज़िन्दगी…..
न हमे खबर उसकी,न उसे खबर हमारी,
बस यूँही चलते जा रही गुमनाम सी ये ज़िन्दगी…..
न तपन आग की हैं, न धूप सावेर की है,
न जाने फिर भी क्यों जलते जा रही गुमनाम सी ये ज़िन्दगी….

-सन्नी रोहिला

About Post Author

Sachin Gupta

Law graduated in 2019, Practicing as an advocate in Delhi. Presently, I want to post my ideas.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: