जंग

मैं खड़ा रहा उस जंग में
न जाने क्या अहसास हुआ
लगा के बाजी जान की
परायों का भी खास हुआ
©Anant_vishv

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: