नारी की इज्जत करने वाला इंसान ही भगवान है

नारी की इज्जत करने वाला इंसान ही भगवान है ।

मसला कुछ यूं है
इलाज करती थी जानवरों का मगर एक बात से अनजान थीं…
जानवर तो सारे सुधर गये,
सुधर ना पायीं गिरीं “सोच” इंसान की।
शेर,चीता,सियार भेड़िया तो नाम के रह गए,
असल में जानवर तो आज इंसान है।
नारी की इज्जत करने वाला इंसान ही भगवान हैं।

अंधविश्वास में तुम भी हो,
सब असलियत से अनजान हैं,
दो दिन बंद रहेगा भारत,
झूठा ये सम्मान हैं,
इतना कुछ हो गया,
अब तो बंद करो ये कहना,
के सबका रखवाला भगवान हैं।
असल में
नारी की इज्जत करने वाला इंसान ही भगवान हैं।

ईश्वर से विश्वास उठ गया अब मेरा
दिन-व-दिन दरिंदगी का माहौल है।
सुना हैं कि सबकी क़िस्मत ऊपरवाला लिखता हैं
फिर जिस्म सर-ए-बाजार
क्यूं बिकता हैं।
किस्मत गर ईश्वर लिखता तो
न लिखता बलात्कार
लड़कियों के नसीब में ।
आंसू बहते लिख रहा हूँ
कुछ फायदा नहीं इस गुणगान का।
बदलेगा कानून देश का
जब जिस्म निचोड़ा जाऐगा
किसी नेता की संतान का।
होता रहा गर रोज ही ऐसा तो बेटी पैदा करना ही अपमान है।
कलियुग के इस दौर में
नारी की इज्जत करने वाला इंसान ही भगवान है
Written by :- Vishal Goad

माँ तू ही सब कुछ हैं

Also Read Tech Blog

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: