नींदिया परी

दूर किसी गाँव में, माँ के आँचल की छाव में,
सोता है एक राजा नींदिया की बाहों में,
चाँद उसको पुकारे अपने पास,
सितारे देखते है उसकी आस,
तू चल आसमान में, नींदिया परी तुझको पुकारे,

दूर जब तू आसमान में जाएगा, मोतीयों की नदिया तू पाएगा,
एक ही मोती ले आना, ज्यादा लालच न दिखाना,
उस मोती को रख के अपने पास,
वापिस दौड़ आना तू अपनी माँ के ही पास,
तू चल आसमान में, नींदिया परी तुझको पुकारे,

काली अँधेरी रात जब सितारों की चादर बिछाएगा,
चुप के से मेरा राजा, नींद की दुनिया में खो जाएगा,
पर अपनी चादर ओढ़ कर रहना तू मेरे ही पास,
क्युकी तेरे साथ से ही चलती है मेरी सांस,
तू चल आसमान में, नींदिया परी तुझको पुकारे,

उड़ के जाएगा तू निंदिया रानी के साथ कई देश,
जहा होंगे बड़े पहाड़, गहरी नदिया और घने पेड़,
वो सब देख कर तू लौट आना मेरे पास,
क्युकी मेरे आँचल में लगाउंगी तेरे नींद से उठने की आस,
तू चल आसमान में, नींदिया परी तुझको पुकारे,

नींद की परी जब छड़ी घुमाएगी,
तभी नींद तुझे आएगी,
नींद में तुझे दिखेगे भगवान् भी अपने पास,
फिर भोर होने से पहले कह देना कि मैं चला अपनी माँ के पास,
तू चल आसमान में, नींदिया परी तुझको पुकारे।

-: अंशुल जैन :-

वो पिता है….

Youtube Video

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: