Hindi Poetry

प्रेम गीत…

0 0
Read Time:1 Minute, 2 Second

 

pexels-photo-240514 प्रेम

- बैठो इस कदर प्रियतम के पास,
भुल जाओ कहीं आना-जाना....

--हो जाओ इक दुसरे के एहसास,
वो कोमल सी राधा बन जाये
तुम बन जाओ चित्चोर कान्हा....

- मोह नहीं प्रेम करो-यही जग की रीत है,
मोह इक दिन उड़ जाएगा 
प्रेम रहे सदा मनमीत है....

- पावन मन है- है ये सावन का रूप,
यह प्रेम तुम्हे सिख्लाएगा....

-- बूँद पड़े हृदय पर खुब,
कण-कण द्वेष मिट जाएगा....

- रस-नीरस से ना परखो प्रेम को,
स्वच्छ-निर्मल सदा से है.... 

-- वाद-विवाद मे ना खोजो इसको,
हृदय धरातल मे सदा से है....

- प्रेम मोहन - प्रेम राधा है,
प्रेम मन की अविरल धारा है.... 

-- प्रेम कृष्ण - प्रेम राधिका है,
प्रेम का खेल का न्यारा है....

✍✍kabiryashhh✍✍

https://thehindiguruji.com/category/blog/
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: