बेवज़ह

बेवज़ह

बेवज़ह, न जाने क्यों
आज दुःख गायब है भीतर से

न जाने क्यों
आज मै खुदको समय से पहले पा रहा हूँ

न जाने क्यों
आज ये आसमां बड़ा नज़र आ रहा है

न जाने क्यों
आज सब कुछ नया सा लग रहा है

न जाने क्यों
आज वो हो रहा है जो बरसो से नही हुआ

न जाने क्यों
आज संतोष सा है मन में

न जाने क्यों
आज मै खुश हूँ बेवज़ह

Vishvajeet Singh Rathore✨

Unconditional Love of Shepherd

गौरैया

News Updates

Leave a Reply

%d bloggers like this: