Hindi Poetry

मुझे सपने पसंद है

0 0
Read Time:1 Minute, 23 Second

मुझे सपने पसंद है

मुझे हकीक़त से ज्यादा,
सपने पसंद है..
जागने से ज्यादा,
गहरी नींद पसंद है।

क्योंकि

सपनों में मेरे पास, फिर से तुम लौट आते हो,
मुझ पर एक बार फिर उसी तरह,अपना हक जताते हो।
और शुरू हो जाता है,फिर से रूठना मनाना,
तुम्हारा और मेरा साथ में मुस्कुराना ।

मुझे इस हकीक़त से ज्यादा,
सपने पसंद है…

क्योंकि

सपनो में आभास नहीं होता मुझे,
कि तुम अब मुझसे दूर हो,
जानती हूँ दुसरी दुनिया में हो तुम
तुम भी मेरी ही तरह मजबूर हो !

मुझे इस हकीक़त से ज्यादा,
सपने पसंद है…

क्योंकि

सपनो में एक बार फिर से मुझे तुम,
ठीक उसी तरह सहलाते हो ।
आँसू बहाने पर मेरे ,
उसी तरह कस के गले लगाते हो ।

ये हकीक़त तो बड़ी ही क्रूर है,
नींद से जागते ही हर पल यक़ीन दिलाती है,
की जो मेरा सबकुछ था,
वही अब मुझसे बहुत दूर है ।

सुनो,
हो सके तो इस हकीकत को झुठलाओ,
या तो अपने पास बुला लो मुझे…
या फिर सपनों की तरह
तुम हकीक़त में भी लौट आओ …।

-aayushiee

https://thehindiguruji.com/category/blog/

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: