मैं एक मुसाफिर

मैं एक मुसाफिर

आज खडा है तु अपने द्वार पर
तुझे क्या कोई समझेगा
तु बस एक जलता दिया है
तुझे हर कोइ मुसाफिर समझेगा ।

अगर फैल जाए तु विश्व मे
तुझे हर कोइ प्रकाश समझेगा ।

ये बारिश लिए तुझे रोकेंगे
पर क्या कोई तुझे समझेगा
तुझमे सूर्य सा तेज है
बादल तुझे कब तक रोकेगा ।

जो खडा हुआ तु निश्चय कर
तो हिमालय भी तुझे निहारेगा
अब राही नहीं तु इस भूमि पर
सारा विश्व तुझे अंगीकार करेगा ।

-अंशुल जैन

Also Read…

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: