शायरों का अस्तित्व…

sayar_sapan_thehindiguruji

अगर मोहब्बत नाम के मजहब का अस्तित्व होता
तो शायद इस दुनिया में शायरों का अस्तित्व न होता
और न ही मोहब्बत इतनी खूबसूरत होती ।
©सपन अग्रवाल

Authors

Leave a Reply

%d bloggers like this: