Hindi Poetry

हमसफर तू चल साथ मेरे…

0 0
Read Time:1 Minute, 1 Second

हमसफर

बहोत सी बाते करनी हैं तुमसे,
करना हैं खुद को हवाले तेरे,
ओ हमसफर तू चल साथ मेरे…
ज़िन्दगी को तेरे नाम करना हैं,
कुछ हसीन पल बिताने है साथ तेरे,
ओ हमसफर तू चल साथ मेरे…
तेरे साथ मंजिलो से अच्छा ये सफर हैं,
दूर तक चलना हैं मुझे पकड़ हाथ तेरे,
ओ हमसफर तू चल साथ मेरे…
नही दिखता तेरे बगैर इन आँखों को कुछ भी,
डूबा रहता हूँ ख्यालो में तेरे,
ओ हमसफर तू चल साथ मेरे…
नही लगता अब अच्छा कुछ भी तेरे बिना अब मुझको,
लिखना हैं खुद को मुकद्दर में तेरे,
ओ हमसफर तू चल साथ मेरे…

Written By: Sunny Rohila

 

https://thehindiguruji.com/category/news-updates/covid-19/

https://thehindiguruji.com/category/blog/

https://timesofindia.indiatimes.com/india/make-your-own-mask-at-home-its-simple/articleshow/75001835.cms?utm_campaign=andapp&utm_medium=referral&utm_source=native_share_tray

About Post Author

Sachin Gupta

Law graduated in 2019, Practicing as an advocate in Delhi. Presently, I want to post my ideas.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: