हिंदी

हिंदी

हिंदी

मेरे संस्कार मेरा दिल मेरी जान हिंदी है,
ये मेरा अहंकार मेरा स्वाभिमान हिंदी है,

मातृभाषा है मेरी गर्व महसूस करते हैं,
मेरे लिए मेरे जीने में मेरी शान हिंदी है,

गंगा,यमुना,सरस्वती नदियों सी पावन,
माँ की ममता सी मेरा सम्मान हिंदी है,

आदर योग्य हैं मेरे लिए सभी भाषाएँ,
सभी भाषाओं में सबसे महान हिंदी है,

संस्कारों के गहनों से सजी संवरी हुई,
स्वर्ग तक सचिन मेरी पहचान हिंदी है,

©️ सचिन गोयल
सोनीपत हरियाणा
इंस्टाग्राम खाता,, बर्निंग_टियर्स_797

Newsहिन्दी से हिन्दुस्तान, हिंदी दिवस

हिन्दी से हिन्दुस्तान

हिन्दी से हिन्दुस्तान

हिन्दी से हिन्दुस्तान
वाणी है मधुर ये मधुर भाषाओं का गौरव है
साहित्य समृद्ध है इसका और मंगलकारी वैभव है
राष्ट्र भाषा है हिन्दी इसका वैभव महान है
देश को सशक्त बनाती है हिन्दी
हिन्दी से हिन्दुस्तान है।।

विभिन्न ग्रन्थ हैं रचित इसमें काव्य का इसमें प्रावधान है
अवधि मैथिली संस्कृत का समावेश इसमें विद्यमान है
देश की मधुर वाणी है हिन्दी
हिन्दी से हिन्दुस्तान है।।

निराला रहीम कबीर की बोली
उर्दू के समावेश का ज्ञान है
आधुनिक युग में इंदौरी और विश्वास के नाम का सम्मान है
भाषाओं की भाषा है हिन्दी
इसका वैभव महान है
देश की कार्यशैली अपनाती हिन्दी
हिन्दी से हिन्दुस्तान है।।
है अनंत साहित्य इसका इस भाषा का होता गुणगान है
बच्चन हरिऔध की बोली हिन्दी
हिन्दी से हिन्दुस्तान है ।।
नई पीढ़ी की आदर्श भाषा का गौरव प्राप्त इसको महान है
नई पीढ़ी को ज्ञानवान बनाती
बनाती सबको विद्वान है
विभिन्न राज्यों की विख्यात भाषा हिन्दी
हिन्दी से हिन्दुस्तान है।।

©️अंकिता वीरेंद्र नारायण
श्रीवास्तव
अयोध्या

Newsहिंदी दिवसशिक्षा

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस

हिंदी सिर्फ़ एक भाषा नहीं,
देश का सम्मान है,
हमें गर्व है अपनी मातृभाषा पर,
जिसने हमें एक पहचान दिलाई,
अपने भाव व्यक्त करने में सहायता पहुँचाई,
दिलों को दिलों से जोड़ती है हिंदी,
हर भारतवासी का अभिमान है हिंदी,
वतन की मिट्टी में ख़ुशबू है हिंदी,
ज्ञान का सागर है हिंदी,
संस्कार का प्रारूप है हिंदी,
अभिवादन में नमस्कार है हिंदी,
हिंदुस्तान के कण-कण में है हिंदी।

✒️ आलोक संतोष राठौर

@ehsaas_ki_awaaz

Newशिक्षागरीब

गरीब

गरीब

क़िस्मत गरीब की भी एक दिन खुदा बदल दे,,
बरसों से सूखा गुलशन कोई कभी तो फ़ल दे,,
क़िस्मत गरीब की भी,,,,,

(1) पूरी उम्र गुजारी रहकर के छप्पर छाते,,
राहें बनाई हमने नित महल हम बनाते,,
खुशियाँ मिले जहां बस कोई ऐसा पल दे,,
बरसों से सूखा गुलशन कोई कभी तो फ़ल दे,,

(2) रुपयों वाला आके हमकों ये भिक्षा देता,,
करनी पड़े गुलामी हमकों ये शिक्षा देता,,
दुखों का हो निवारण कोई तो हमकों हल दे,,
बरसों से सूखा गुलशन,,,,,

(3) मर जाये यूँ ही एक दिन राहों में हम तड़पकर,,
फ़िर देख लेना आके तू भी तमाशा जी भर,,
सचिन खुदा के दर पर मुझे साथ लेके चल दे,,
बरसों से सूखा गुलशन,,,,,

©️ सचिन गोयल
सोनीपत हरियाणा
Insta id,, burning_tears_797

ग़रीबीझूठ और फरेब की दुनियादोस्तीNews

कचरे का अंबार

कचरे का अंबार

कचरे का अंबार

–◆◆–◆◆–◆◆–
चारों ओर तूने क्या हाल बना दिया ?
देखते ही देखते, कचरे का अंबार लगा दिया।

खुशबू की फ़िज़ाओं से महकाया था गुलशन को
मानव ने देखो, बदबू फैला दिया।

जानते हैं सभी, के ख़तरा मोल रहा है,
हर बार हाँ बार बार, प्रकर्ति से खेल रहा है
भाषण और काग़ज़ से दबी है ज़ुबान
जान कर खुद ज़हर पी रहा है।

जल , थल, वायु सब मटमैला कर दिया
बीमारियों से देखो घर भर गया
घर की सफाई कर बाहर फेंकता है
फिर रुमाल रखकर वही से गुजरता है।

अब न समझे तो कभी न समझ पाओगे
प्रकर्ति से खेले तो मौत ही पाओगे
मिटना है एक दिन, जानते हैं सब
हाल एहि रहा, तो वक़्त से पहले सिमट जाओगे
हाँ जी हाँ…
अब न समझे तो कभी न समझ पाओगे
प्रकर्ति से खेले तो मौत ही पाओगे

©️Nilofar Farooqui Tauseef
Fb, IG-writernilofar

मेरी डायरीजीवन में जल का महत्वराधाNews Updates

कोरोना

कोरोना

कोरोना

हम हर एक परिस्थिति से कुछ ना कुछ सीख सकते हैं, कोरोना से हम पहचान किस तरह की होनी चाहिए, यह सीख सकते

कोरोना
इतिहास बना दें ऐसे, जैसे कर दिखलाया कोरोना।
अपने भीतर जितने दुश्मन, है उनका अब नहीं होना।।

झूठ, कपट, आलस्य त्यागकर, हम अधिकारिक विजयी बनें।
किस पथ पर कितना चलना है, ये भी अब हम स्वयं चुनें।।

मंजिल तक जो रस्ता जाता, हम उस रस्ते के हो लें।
अपने हक का हर एक मंज़र, खुद से लूट सके तो लें।।

जो कहता है क्या, क्यों, कितना, खुद प्रतिकारित हो जाएगा।
खुद को, खुद से, खुद में देखें, सब परकाशित हो जाएगा।।

जाना वहां, जहां जाने को निकले कल से कल खातिर।
कर दिखलाना, है हमको कुछ भाषण में तो जग माहिर।।

(एन. के. जैन)
@naman9203

बारिश

ज़िंदगी

News Updates

किन्नर

किन्नर

किन्नर ये शब्द सुनकर ही अनेक लोग विभिन्न प्रकार के ख़याल सोचने लगतें है,
शायद वे उन्हें अपने समाज में कोई स्थान ही नहीं देना चाहतें,
आखिर समाज के लोग क्यों नहीं सोचते कि वे भी तो एक इंसान है,
उसे इंसान की तरह दर्जा क्यों नहीं देते,
समाज ने इतनी ख़राब छवि बनाकर रखी है,
कि लोग इनसे बात करना और देखना भी पसंद नहीं करते,
क्या वे ईश्वर की संतान नहीं है,
जो उन पर ऐसा अत्याचार हर रोज होता है,
इसमें गलती हम सबकी ही है,
हमनें उनको आगें बढ़ने का मौका ही नहीं दिया,
शिक्षा से लेकर हर कार्य तक उनकों उस काम से वंचित रखा,
क्या वह देश के नागरिक नहीं है,
क्या वह देश की उप्लाब्धि में भागीदारी नहीं देते,
उनकों मौका मिलने पर उन्होंने हमसें बेहतर कर के दिखलाया है,
वकील , जज, प्रधान अध्यापक बनकर समाज में अपना नाम गौरव करके भी दिखलाया है।
आज भी बहुत लोगों के अंदर यह गलत अवधारणा बैठी है,
कि किन्नर काम नहीं कर सकतें शिक्षा पर उनका हक नहीं,
केवल कुछ लोग ही उनका साथ देने को आते है,
हम सबकों मिलकर इस गलत अवधारणा को मिटाना है,
सभी कार्यो के लिये उनको हक भी दिलाना होगा,
वो छोटे है या हम बड़े इस भेद को समाज में पूरी तरह से मिटाना होगा,
सबकों बराबरी का दर्जा देकर अपने देश को मिलकर आगे बढ़ाना होगा।

जातिवाद

News Updates

✒️Alok Santosh Rathaur
@ehsaas_ki_awaaz

Martyr

Martyr

Martyr,

The best ever person is in the world is an army man and his family
Never lose hope never seen hopeless
Every time having a encourage mindset
Funeral of that is sad
But he not died he called a martyr
A man is an honor who erase herself
To save the county reputation and our life’s
A great salute to that man from the heart
Who sacrifices his whole life for honour of the country

Shubham Shrivastava
@shrivastavas2151

Yours

I Missed You The Other Day

News Updates

DESTINED TO WRITE OUT MY HEART

DESTINED TO WRITE OUT MY HEART

DESTINED TO WRITE OUT MY HEART

I feel I was destined to write because,
My heart and mind never stopped meeting to all the limits of my life.

I was destined to write because I feel too very lucky to have this quality of playing with words,
I feel I can easily make words strike on directly from the heart to mind.

All that intense pressure and pain and pleasure of my life,
I made a way for me to express my feelings and thoughts freely through writing and so I feel I was destined to write.

©️DEEPSHIKHA AGARWAL!

 

True & Pure Commitment

Love with utmost,
Care to lead to a happy,
A life filled with utmost pure,
Feelings and showering blessings and having pure,
Emotions leading to a happy life full of,
Happiness and success which drains out all the,
The sadness of our lives and having,
Words of wisdom which help us keep up to our,
Virtues and beliefs resulting in,
Perfection is the correct form of commitment in life.

©️DEEPSHIKHA AGARWAL!

The Days

 

All that slays isn’t really beautiful,
All those smiles isn’t due to happiness.
Sometimes many things are done just for the cliche of time and need of people,
So don’t underestimate as well as don’t overpower yourself with false hopes.
Be real and face reality,
Avoid fakeness and feel real.

©️DEEPSHIKHA AGARWAL!

 

So what if I am broken for now,
It’s just a mere part of this never-ending life’s exams and lessons.
I am still strong enough to face the world and it’s challenging,
Being broken for now doesn’t mean that I am broken for a lifetime.

©️DEEPSHIKHA AGARWAL!

Intimacy

He told her his most intimate thoughts and secrets.
That’s how much he loved her.

@her_scribbled_stories
By Amruta_Patil

Also Read

A Folktale

Real Time News Updates

CRY OF SURPRISE

CRY OF SURPRISE

Cry of Surprise, I learn by going where I have to go
Sometimes I wake to sleep & my waking slow
And my cry of surprise says hallo
The sky at sunset glows
You took a deep breath and your thoughts below
Nature has another plan for us you know
Here’s winter, wine & song for us so
Yet the day is over long below
Some things render us strong
Like a graceful Willow along
This love was always Overdrawn
And it snags me for lifelong
Sometimes I wake to sleep & my waking slow…

@her_scribbled_stories
Amruta_Patil

Just Confusion All Around

The Beauty of Flowers

News Updates