कुछ अंश

कुछ अंश

कुछ अंश

🌹किसी से बातचीत🍂🍃 के दौरान बातों के कुछ अंश🌹

उसने कहा वो🍂🍃 लोग भी अच्छे हैं,,

मैंने कहा,,,,,

मुझको तुम बुरे भी अच्छे लगते हो,,
झूठ बोलते हो मगर सच्चे लगते हो,,

माना खिले हैं सैंकड़ों फूल शाखों पर,,
मगर मुझमें उलझे तुम गुच्छे लगते हो,,

मुझको सारे जहाँ से क्या लेना देना,,
उन सच्चों में मुझे तुम सच्चे लगते हो,,

दुनिया कहती है बड़े चालबाज हो,,
मगर मुझे तुम नादान बच्चे लगते हो,,

मुझे तुमने तोड़ा बड़ी होशियारी से,,
पर सचिन तुम अक्ल के कच्चे लगते हो,,

कुछ अंश

©️ सचिन गोयल
सोनीपत हरियाणा
Insta id, burning_tears_797

मेरी स्वंयरचित🍂🍃 एक रचना

परिवारऐसा परिवार अब कहाँकुटुम्ब

News Updates

नादान इश्क़

नादान इश्क़

नादान इश्क़, उनके इश्क़ के किस्से खुब मशहूर हुए,
कभी लैला-मजनू तो कभी शीरिन-फरहाद कहलाए गए।
और किसमत तो देखो उनकी,
वक़्त ने भी उनका बहुत साथ दिया।
जितने मशहूर उनके इश्क़ के चर्चे थें,
जातीं के नाम पर उतनी ही दर्दनाक मौत उन्हें नसीब हुई।
इश्क़ तेरे भी अजीब ढंग हैं,
कभी हंसाती हैं तो कभी रूलाती हैं।
कभी-कभी तो सचमुच जान ही ले लेतीं हैं,
कभी-कभी तो सचमुच जान ही ले लेतीं हैं।

©दीपशीखा अग्रवाल!

तुम हो या ना हो

खुशी परिवार था

24X7 News Updates