क्योंकि हम इंसान हैं

क्योंकि हम इंसान हैं

क्योंकि हम इंसान हैं, हमें बोलना अच्छा लगता है सुनना नहीं। भगवान ने हमें दो कान और मुंह एक दिया है और हमें याद भी नहीं क्योंकि हम इंसान हैं, खुद गलत होकर भी दूसरों को जज करना हमारी आदत है, गलतियां करके सॉरी बोल देना हमारे लिए बहुत आसान है, क्योंकि हम इंसान हैं ।

जबरदस्ती दूसरों पर अपनी मर्जी थोपना उनकी जिंदगी को वश में करना हमें अच्छा लगता है क्योंकि हम इंसान हैं।
क्यों हम कभी किसी को थोड़ा सा प्यार थोड़ी सी इज्जत थोड़ा सी प्रशंसा नहीं दे सकते ?
क्यों हम लोगों की नहीं सुनते क्यों सिर्फ हमारी ही सुनाते रहते हैं? कभी स्वार्थी न बनकर हम सामने वाले को नहीं सुन सकते ? आखिर वह भी तो इंसान हैं!

आज एक वीडियो https://youtu.be/hpWB4A4Pm9I देखकर ऐसा लगा कि सिर्फ एक इंसान को ही नहीं हम सबको किसी के साथ की जरूरत है आज भारत में हर दूसरी मौत का कारण तनाव और अवसाद ही है पर हम उसे नियंत्रित कर सकते हैं उसे कम किया जा सकता है।

सिर्फ थोड़ा सा प्यार और थोड़ा सी प्रशंसा के साथ अपनों को सुनकर तो देखो “please learn to listen or appreciate the people and help them by giving new hope or reason to live their life with smile”

क्योंकि हम इंसान हैं

आज हर कोई परेशान है कि हमारी कोई नहीं सुनता माँ बाप परेशान है कि बच्चे उनकी नहीं सुनते और वही बच्चों को लगता है कि माँ बाप उन्हें नहीं समझते, बॉस को लगता है एंप्लॉय उसको फॉलो नहीं करते तो एंप्लॉय समझते हैं कि बॉस उनकी नहीं सुनते ।

मतलब कहीं अगर सुनने वालों की कमी है तो शायद सुनाना भी लोग पसंद नहीं करते है उन सभी से निवेदन है कि वह लोग अपनों से बात करें और अपने आपको जाहिर करना सीखें क्योंकि कुछ चीजें कोई सिखाता नहीं हमें खुद सीखनी पड़ती हैं क्योंकि हम इंसान है।

अक्षय कुमार जी की वीडियो में मैंने सुना था कि दिल औजार से खोलने से अच्छा है कि अपने दोस्तों के साथ खोल लिया जाए तो प्लीज आज ही अपने दोस्तों से बात करें और जाने की उनकी लाइफ कैसी चल रही है शायद आपके किसी दोस्त को इसकी जरूरत हो और यह ना सिर्फ आपके दोस्त की बल्कि आपको अपने आपको जानने में भी हेल्प करेंगी क्योंकि हम इंसान हैं ।

मुझे उम्मीद है आप लोग कोई अच्छा लगा होगा और आप इसे हर उस इंसान के साथ शेयर जरूर करना चाहेंगे जिसे इस वीडियो की जरूरत है ताकि दोबारा कोई भी अवसाद और नेगेटिविटी की वजह से ख़ुदकुशी जैसा पाप करने के लिए मजबूर ना हो क्योंकि-हम-इंसान है क्योंकि-हम-इंसान है। चलो आज कुछ अच्छा करते हैं हम हमारे अपनों से कुछ दिल की बात करते हैं

©️ रजनी अग्रवाल

 

वो‌ चला‌ गया

एक वादा ऐसा भी

दर्द ऐ मोहब्बत

हम इंसान हैं

News Updates

एक फौजी के अल्फाज……

एक फौजी के अल्फाज

एक फौजी के अल्फाज……

के लड़कर आया हूँ निभाया हैं धरती माँ के बेटे का फर्ज,
अब जिस कोख से जन्मा उस माँ के बेटे का फर्ज निभाने दे ना,
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना…
मरते दम तक रक्षा की हैं, चुका दिया हैं धरती माँ का कर्ज,
अब मेरी उस माँ का थोड़ा सा दूध का कर्ज निभाने दे ना,
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना……..
बहोत साल गुजर गए अपनी प्यारी सी बहन से मिले,
सुनी सी पड़ी इस कलाई में उसके प्यारे से हाथो से राखी बंधवाने दे ना,
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना….
मेरी एक साथी भी हैं नीचे, मुझसे दूर रहते हुए भी पत्नी का धर्म निभाया हैं,
बंदूको से तो सारे धर्म निभा लिए ,
अब पति का धर्म निभाने दे ना,
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना…..
उसकी कोख मे पल रही एक नन्ही सी कली जिसके आने का कब से इंतज़ार कर रहा था,
उसे मुझे एक बार पापा कहके बुलाने दे ना,
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना……
भगवान मुझे फिरसे धरती पर जाने दे ना……..

सन्नी रोहिला

@its_sunnyrohila

एक फौजी के अल्फाज……

शहीद

ह्रदय की पीड़ा

News Updates