माँ तू ही सब कुछ हैं

माँ तू ही सब कुछ हैं

माँ तू ही सब कुछ हैं

शिव की शक्ति तू,
विष्णु की लक्षमी तू।

ब्रह्मा की सरस्वती तू,
इंद्र की इंद्राणी भी तू।

काली तू,
महाकाली तू।

अंत भी तू,
आरंभ भी तू।

अश्रु भी तू,
आनंद भी तू।

जगतजन्नी तू,
जगतमाता भी तू।

माता तू,
विधाता तू।

प्राण भी तू,
स्वांस भी तू।

जीवन तू,
मृत्यु भी तू।

जीवन का आधार भी तू,
जीवन का संहार भी तू।

काल भी तू,
महाकाल भी तू।

जिंदगी की डोर भी तू,
जिंदगी की आखिरी उम्मीद भी तू।

कृष्ण की राधिका प्यारी भी तू,
कृष्ण की रूकमणी भी तू।

राजकुमारी भी तू,
रानी भी तू।

श्राप भी तू,
आशीर्वाद भी तू।

कर्म भी तू,
धर्म भी तू।

इच्छा भी तू,
अनी इच्छा भी तू।

भकित भी तू,
शक्ति भी तू।

आशा भी तू,
निराशा भी तू।

विचार भी तू,
निष्कर्ष भी तू।

ज्ञान भी तू,
अज्ञान भी तू।

माँ तू ही धनवान हैं,
माँ तू ही सब कुछ हैं।

©DEEPSHIKHA AGARWAL!

STOP CHILD ABORTION

Bachpan (In Indian Language)

Dear Mummy

5 Best Books to Read…