दोस्ती

दोस्ती

दोस्ती की मिसाल हर युग में दी जाती है,
चाहे वो हो कृष्ण सुदामा की दोस्ती या,
हो दुर्योधन कर्ण की दोस्ती,
दोस्ती सिर्फ सुख में नहीं,
दुःख में भी साथ निभाती है,
राह गलत हो या सही ,
अंतिम साँस तक साथ निभाती है,
कर्ण जानकर भी अधर्मी दुर्योधन का साथ देते रहें,
अपने दोस्तीके ऋण को उतारने के लिए अपने प्राण तक अर्पित कर दिए,
कृष्ण ने अपने सखा सुदामा की दरिद्रता पल भर में दूर कर दी,
अर्जुन और कृष्ण जी एक दूसरे के सखा भी थे,
इसलिये हर पग पर कृष्ण ने अर्जुन रक्षा भी की और विजय के पथ का मार्ग दर्शन भी किया।
सच्चा दोस्त वही है जो अपने मित्र की भलाई के बारे में सर्वप्रथम सोचें,
और मित्र को उन्नति और विजय के मंज़िल तक पहुँचाये।

✒️Alok Santosh Rathaur
@ehsaas_ki_awaaz

कुछ अंशपरिवारऐसा परिवार अब कहाँ

News

मेरी डायरी

मेरी डायरी

मेरी डायरी में मैंने लिखा एक नया पैगाम
जो कमाया मेहनत से बस वही एक नाम
अंकित किए कुछ शब्द अपनी ख्वाइशों के
एक लड़की की दास्ताँ एक इकलौती संतान का काम।।

एक शरारती लड़की की उम्र
अंकिता के दिल का हाल
कभी खुशियाँ और गम
कभी अपनी नासमझी की मिसाल।।

मैंने लिखा दुनिया का सितम
किसी की आँखें जो थी नम
कभी हौसलों की कहानी
कभी किस्सों में सुने राजा और रानी
कभी दोस्तों की बातों को
कभी पापा जी के संवादों को
कभी घर के राशन का सामान
कभी अखबार की सुर्खियों का निशान
कभी मिली कोई उपलब्धि
कभी कहीं मिली कोई प्रसिद्धि
कभी किसी किताब का वर्णन
कभी जीवन का चिंतन।।

©️Ankita Virendra Narayan Shrivastava

IG ankitavshrivas or virendraankita