0 0

मैं समय हूं

मैंने दक्ष के द्वारा होते, सती का अपमान देखा है । मैंने एक मां के द्वारा होते, ध्रुव का तिरस्कार देखा है। मैंने समुद्र मंथन से विष निकलते और अमृत...
0 0

समय

समय/वक्त -◆★-★◆-◆★-★◆- वक़्त ही है, जो हर आईना दिखा देता है। वक़्त ही है, जो पत्थरों को भी खुदा बता देता है। डर है गर ज़िंदगी में, तो वक़्त से...